Sunday, June 26, 2022
Home अंतर्राष्ट्रीय पेंगोंग लेक पर चीन बना रहा एक और पुल, आसानी से पहुंचा...

पेंगोंग लेक पर चीन बना रहा एक और पुल, आसानी से पहुंचा सकेगा भारी हथियार


बीजिंग। भारत और चीन के बीच बॉर्डर गतिरोध दो साल से अधिक से बना हुआ है। इस बीच पैंगोंग लेक पर चीन एक और पुल बना रहा है जो कि भारी हथियारों को ले जाने में सक्षम होगा। पहले पुल का निर्माण 2021 के आखिरी में शुरू था और पिछले महीने उस पुल का काम खत्म कर लिया गया। पैंगोंग लेक पर चीन जो नया पुल बना रहा है उसके लिए पुराने पुल को सर्विस ब्रिज के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है।

20 दिनों से जारी है पुल पर काम

रिपोर्ट्स के मुताबिक पहले पुल का इस्तेमाल चीन अपने क्रेन को तैनात करने और अन्य निर्माण इक्विपममेंट्स लाने के लिए कर रहा है। इसके ठीक बगल में एक नया पुल पुराने पुल से बड़ा और चौड़ा बनाया जा रहा है। पिछले करीब 20 दिनों से इस पुल का निर्माण कार्य जारी है। नया पुल दोनों ओर से एकसाथ बनाया जा रहा है।
जब चीन पैंगोंग लेक पर पहला पुल बना रहा था तो सूत्रों ने कहा था कि भारतीय सेना के अगस्त 2020 जैसे ऑपरेशन का मुकाबला करने के लिए चीन पुल बना रहा था। इस ऑपरेशन के तहत भारत ने पैंगोंग लेक के दक्षिणी तट के रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया था। उस वक्त सूत्रों ने बताया था कि पुल का मकसद रुडोक के रास्ते खुर्नक से दक्षिणी तट तक 180 किलोमीटर के लूप को काटना था। आसान भाषा में इसका मतलब यह है कि उस पुल के बनने से खुर्नक से रुडोक तक का रास्ता 40-50 किलोमीटर तक कम हो जाएगा।

135 किलोमीटर लंबे पैंगोंग लेक लद्दाख क्षेत्र और तिब्बत चीन के नियंत्रण में है। इस क्षेत्र में मई 2020 से ही भारत और चीन के बीच तनाव देखा गया है। पहले पुल सिर्फ सैनिक और हल्के वाहन ही ला सकते थे लेकिन नए पुल से चीन बख्तरबंद वाहनों भी आसानी से आ-जा सकेंगे। यह नया पुल चीनी सैन्य बुनियादी ढांचे की एक श्रृंखला का हिस्सा हैं जो चीनी पूर्वी लद्दाख में बना रहे हैं।

पिछले दो सालों से भारत और चीन के बीच तनाव बना हुआ है। इसी दौरान सितंबर 2020 से जून 2021 के बीच भारत ने मोल्डो गैरीसन के लिए एक नई सडक़ का निर्माण किया था ताकि ऊंचाई वाले क्षेत्र में और प्रभावकारी रह सके। प्रिंट ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि चीन पैंगोंग लेक के दक्षिणी तट पर भारतीय सेना के किसी भी संभावित ऑपरेशन का मुकाबला करने के लिए कई रास्ते पर काम कर रहे हैं। हालांकि नई दिल्ली ने साफ कहा है कि हम लाइन ऑफ एक्चुअल पर युद्ध नहीं चाहते हैं लेकिन अगर बीजिंग तनाव को बढ़ाने की कोशिश करता है तो नतीजे की चिंता किए बिना हम जोरदार प्रतिक्रिया देंगे।





Source link

RELATED ARTICLES

अमेरिकी महिलाएं अब कैसे कराएंगी गर्भपात, प्रग्नेंसी को खत्म करने के लिए बढ़ेगा पिल्स का इस्तेमाल?

वॉशिंगटन। अमेरिका के उच्चतम न्यायालय ने रो बनाम वेड मामले में दिए गए फैसले को पलटते हुए गर्भपात के लिए संवैधानिक संरक्षण को...

सऊदी अरब और तुर्की में बढ़ रही दोस्ती, प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान जाएंगे अंकारा के दौरे पर

काबुल । इस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्यिक दूतावास में पत्रकार जमाल खशोगी की 2018 में हत्या के बाद सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद...

अफगानिस्तान में आया 6.1 तीव्रता का भूकंप, लगभग 255 लोगों की मौत की खबर

अफगानिस्तान में भूकंप के तेज झटके आए है, भूकंप के कारण जन- धन की काफी हानि भी हुई है, वहीं लगभग 255 लोगों...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अब आप हेलीकॉप्टरों से नहीं कर पाएंगे बाबा केदार के दर्शन, 10 जुलाई के बाद केवल पैदल यात्रा से ही हो पाएंगे दर्शन

देहरादून । छह मई से केदारनाथ के लिए यात्रा खुली थी। तब से 24 जून तक 80 हजार श्रद्धालुओं ने हेलीकॉप्टर से केदारनाथ...

उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद के सहयोग से पर्वतारोहण अभियान दल सफलता पूर्वक पहुंचा श्रीकंठ पर्वत

देहरादून। उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद (यूटीडीबी) के सहयोग से इंडियन माउंटेनियरिंग फाउंडेशन के नेतृत्व में आयोजित पर्वतारोहण अभियान दल सफलता पूर्वक श्रीकंठ पर्वत...

आपको जानकारी है कार्यकाल खत्म होने के बाद कहां रहते हैं भारत के राष्ट्रपति..?

नई दिल्ली। राष्ट्रपति भवन को भारत की शक्ति, शान और सुंदरता के प्रतीक के रूप में भी देखा जाता है। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ...

मुख्यमंत्री ने जन समस्याओं के उचित समाधान के लिए अधिकारियों को दिए दिशा निर्देश

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित मुख्य सेवक सदन में प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से आये लोगों की समस्याओं...

मुख्यमंत्री घसियारी कल्याण योजना के लिए सभी पर्वतीय 11 जिले चयनित

सरकार की यह योजना चार जिलों की महिलाओं के लिए वरदान साबित हुई थी 150 एमपैक्स के जरिए मिलेगा साइलेज सरकार की यह योजना...

अमरनाथ यात्रा से पहले श्राइन बोर्ड का बड़ा फैसला, चिप्स-समोसा, कोल्ड ड्रिंक समेत जंक फूड बैन

नई दिल्ली।  2 साल बाद फिर से अमरनाथ यात्रा शुरू हो रही है। हालांकि, अमरनाथ यात्रा के शुरू होने से पहले खाने की...

अमेरिकी महिलाएं अब कैसे कराएंगी गर्भपात, प्रग्नेंसी को खत्म करने के लिए बढ़ेगा पिल्स का इस्तेमाल?

वॉशिंगटन। अमेरिका के उच्चतम न्यायालय ने रो बनाम वेड मामले में दिए गए फैसले को पलटते हुए गर्भपात के लिए संवैधानिक संरक्षण को...

बद्री—केदार की तर्ज पर भव्य स्वरूप लेगा बागनाथ धाम : सचिव पर्यटन

भारत सरकार की प्रसाद योजना के अंतर्गत किए जाएंगे विकास कार्य देहरादून । सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर द्वारा कुमाऊँ भ्रमण के तीसरे दिन...

CM धामी ने लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान समारोह कार्यक्रम में किया प्रतिभाग, 27 लोकतंत्र सेनानियों और उनके परिजनों को किया सम्मानित

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को बिगवाड़ा स्थित पार्टी कार्यालय पहुॅचकर ’’आपातकाल के दौरान लोकतंत्र की रक्षा हेतु संघर्ष करने एंव जेलों...

हाइवे चौड़ीकरण में एनएच डोईवाला की मनमानी, जलसंस्थान के कई चेंबर तोड़ डाले, ठीक करने को लेकर एनएच और जलसंस्थान आमने-सामने

देहरादून। सालों से लड़का पड़ा हरिद्वार-देहरादून हॉइवे के चौड़ीकरण का काम कछुवा गति से जारी है। कार्यदायी संस्था बदले के बाद कुछ समय...