Saturday, August 20, 2022
Home राष्ट्रीय आपको जानकारी है कार्यकाल खत्म होने के बाद कहां रहते हैं भारत...

आपको जानकारी है कार्यकाल खत्म होने के बाद कहां रहते हैं भारत के राष्ट्रपति..?


नई दिल्ली। राष्ट्रपति भवन को भारत की शक्ति, शान और सुंदरता के प्रतीक के रूप में भी देखा जाता है। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का 24 जुलाई को कार्यकाल खत्म हो जाएगा। फिलहाल कोविंद दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रपति भवन में रहते हैं। भारत का राष्ट्रपति भवन 330 एकड़ में फैला है हालांकि इमारत पांच एकड़ में बनी है। चार मंजिला इस इमारत में कुल 340 कमरे हैं। राष्ट्रपति भवन का उद्यान 190 एकड़ में फैला है। भारत के प्रथम नागरिक के इस निवास स्थान में करीब 200 लोग काम करते हैं। इस भवन में राष्ट्रपति को विशेष तरह की सुविधाएं प्राप्त होती हैं। राष्ट्रपति के निवास, स्टाफ, मेहमानों और भोजन आदि पर सालाना करीब 225 लाख रुपये खर्च होते हैं। लेकिन आज का मुद्दा ये है कि कार्यकाल खत्म होने के बाद पूर्व हो चुके राष्ट्रपति कहां रहते हैं और उन्हें कौन-कौन सी सुविधाएं मिलती हैं…?

पूर्व राष्ट्रपति के लिए क्या है नियम….?

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नियमानुसार पूर्व राष्ट्रपति को देश की राजधानी दिल्ली में कैबिनेट मंत्री को आवंटित होने वाला बंगला ही देना होता है। रामनाथ कोविंद भारत के 14वें राष्ट्रपति हैं। दो राष्ट्रपति, ज़ाकिर हुसैन और फ़ख़रुद्दीन अली अहमद की पद पर रहते मृत्यु हो गयी थी। इनके अलावा जिन राष्ट्रपतियों की सेवा समाप्त होती गई, उनमें से ज्यादातर दिल्ली न रहकर अपने-अपने गृह क्षेत्र चले गए।

जैसे देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद कार्यकाल खत्म होने के बाद पटना शिफ्ट हो गए थे। दूसरे राष्ट्रपति एस. राधाकृष्णन, चौथे राष्ट्रपति वीवी गिरी और नौवें राष्ट्रपति आर वेंकटरमन सेवा मुक्त होने पर चेन्नई चले गए थे। एन संजीव रेड्डी राष्ट्रपति भवन छोड़ने के बाद बेंगलुरु चले गए थे। प्रतिभा पाटिल पद छोड़ने के बाद पुणे शिफ्ट हो गयी थीं।

वहीं कुछ पूर्व राष्ट्रपति दिल्ली में भी रहें। ज्ञानी जैल सिंह कार्यकाल खत्म होने के बाद तीन मूर्ति स्थित सर्कुलर रोड के पास एक बंगले में रहने लगे थे। शंकर दयाल शर्मा सफदरजंग रोड स्थित एक बंगले में रहें। केआर नारायणन पद छोड़ने के बाद लुटियन दिल्ली में रहे। एपीजे अब्दुल कलाम 10 राजाजी मार्ग स्थित एक बंगले में रहे। बाद में इसी बंगले में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी भी रहे।

पूर्व राष्ट्रपति को मिलने वाली सुविधाएं

राष्ट्रपति की मासिक सैलरी 5 लाख रुपये होती है, इस रकम पर किसी भी प्रकार के कर (टैक्स) का भुगतान नहीं करना होता। रिटायर होने पर 1.5 लाख रुपये प्रति माह पेंशन मिलता है। स्टाफ पर खर्च करने के लिए 60 हजार रुपये महीना अलग से मिलता है। आजीवन मुफ्त इलाज और आवास की सुविधा भी मिलती है। इसके अलावा पूर्व राष्ट्रपति को दो फ्री लैंडलाइन और एक मोबाइल भी दिया जाता है।





Source link

RELATED ARTICLES

देश की छवि बिगाडऩे वालों पर केंद्र सख्त, 8 यूट्यूब चैनलों पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। केंद्र सरकार देश के खिलाफ दुष्प्रचार फैलाने वाले यूट्यूब चैनलों के खिलाफ बड़े एक्शन के मूड में है। केंद्र ने आज...

शिवराज सिंह चौहान को बीजेपी संसदीय बोर्ड से बाहर करना क्या मध्य प्रदेश के लिए है साफ संकेत?

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भाजपा की फैसले लेने वाली शीर्ष संस्था भाजपा संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया...

देश में खत्म हुआ तिरंगा अभियान, जानें झंडे को सम्मान के साथ रखने का तरीका, इन गलतियों से होता है अपमान

नई दिल्ली। देश में हर घर तिरंगा अभियान खत्म हो चुका है। स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त के मौके पर पूरे देशभर में...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

राष्ट्रीय खेल दिवस के दिन शुरू की जाएगी मुख्यमंत्री खिलाड़ी उदीयमान योजना- रेखा आर्या

खेल मंत्री रेखा आर्या ने राष्ट्रीय खेल दिवस की तैयारियों के संदर्भ में की खेल विभाग की समीक्षा बैठक देहरादून। आज यमुना कॉलोनी स्थित...

सोशल मीडिया पर तैर रही एक खबर से आहत हुए पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, जानिए क्या है पूरा मामला

देहरादून।  भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत सोशल मीडिया पर तैर रही एक खबर से आहत हैं। ब्रेकिंग न्यूज की...

जिलाधिकारी ने बद्रीनाथ धाम में चल रहे मास्टर प्लान के निर्माण कार्य का किया निरीक्षण

चमोली। जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने गुरूवार को बद्रीनाथ धाम में मास्टर प्लान तहत चल रहे निर्माण कार्यो का स्थलीय निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी...

CM धामी ने ’रमणी जौनसार एवं ’जौनसार बावर के जननायक पं. शिवराम’ पुस्तक का किया विमोचन

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को आई.आर.डी.टी सभागार, सर्वे चौक, देहरादून में जौनसार बाबर के प्रथम कवि पं. शिवराम जी द्वारा...

देश की छवि बिगाडऩे वालों पर केंद्र सख्त, 8 यूट्यूब चैनलों पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्ली। केंद्र सरकार देश के खिलाफ दुष्प्रचार फैलाने वाले यूट्यूब चैनलों के खिलाफ बड़े एक्शन के मूड में है। केंद्र ने आज...

UKSSSC पेपर लीक मामले में एसटीएफ के हाथ लगी एक और बड़ी सफलता, जूनियर इंजीनियर ललित राज शर्मा की हुई गिरफ्तारी

देहरादून। पेपर लीक मामले में एसटीएफ के हाथ लगी एक और सफलता। एसटीएफ ने लंबी पूछताछ के बाद धामपुर निवासी जूनियर इंजीनियर...

शिवराज सिंह चौहान को बीजेपी संसदीय बोर्ड से बाहर करना क्या मध्य प्रदेश के लिए है साफ संकेत?

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भाजपा की फैसले लेने वाली शीर्ष संस्था भाजपा संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया...

CM धामी ने बहुउद्देशीय क्रीडा भवन में आयोजित बैडमिंटन प्रतियोगिता’ का किया शुभारंभ

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को बहुउद्देशीय क्रीडा भवन, परेड ग्राउंड, देहरादून में उत्तरांचल राज्य बैडमिंटन एसोसिएशन द्वारा आयोजित ’उत्तराखण्ड राज्य सीनियर...

खाद्य एवं औषधि विभाग, उत्तराखंड सरकार और एसडीसी फाउंडेशन ने चलाया तीन दिवसीय रुको अभियान

देहरादून। खाद्य सुरक्षा आयुक्त राधिका झा के निर्देशों पर देहरादून में इस्तेमालशुदा खाद्य तेल से बायो डीजल बनाने के भारत सरकार के महत्वपूर्ण...

धामी सरकार ने किया स्वरोजगार के लिए साक्षात्कार का झंझट खत्म, अब लाभार्थियों को मिलेगा आसानी से ऋण

देहरादून। उत्तराखंड में धानी सरकार ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना और अति सूक्ष्म (नैनो) योजना में स्वरोजगार के लिए साक्षात्कार का झंझट खत्म कर...