राष्ट्रीय

सुप्रीम कोर्ट का त्रिपुरा चुनाव स्थगित करने से इनकार, शांति बनाए रखने का आदेश

[ad_1]

नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने त्रिपुरा निकाय चुनाव (Tripura civic polls) स्थगित करने से इनकार कर दिया है. त्रिपुरा राज्‍य (Tripura) में निकाय चुनाव से पहले हुई हिंसा के मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि चुनाव प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और चुनाव प्रचार मंगलवार 23 नवंबर को 4:30 बजे समाप्त होगा. वहीं, मतदान 28 नवंबर को है और मतगणना 4 दिसंबर को है. अदालत ने कहा कि चुनाव स्थगित करना अंतिम विकल्‍प होता है. कोर्ट ने कहा, ‘हमारा विचार है कि चुनाव स्थगित करने से पहले, टीएमसी (TMC) द्वारा व्यक्त की गई आशंका के मद्देनजर त्रिपुरा सरकार को निर्देश जारी करें, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि नगरपालिका चुनाव के शेष चरण शांतिपूर्ण और व्यवस्थित तरीके से हों.’

इससे पहले के घटनाक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को दिल्ली के अपने आवास में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसदों के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की थी. प्रतिनिधिमंडल ने बताया था कि त्रिपुरा पुलिस पार्टी कार्यकर्ताओं पर क्रूरता और बर्बरता से कार्रवाई कर रही है. त्रिपुरा में हुई घटना के बाद पार्टी का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रीय राजधानी पहुंचा था और गृह मंत्रालय (एमएचए) के बाहर धरने पर बैठ गया था. सांसदों ने गृह मंत्री और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी की और अमित शाह से मिलने का समय मांगा था. टीएमसी नेता सुखेंदु शेखर रे ने पीटीआई के हवाले से कहा कि हम चाहते हैं कि गृह मंत्री हमारी बात सुनें. त्रिपुरा में हो रही हिंसा के लिए शाह और मोदी दोनों को जवाब देने की जरूरत है.

ये भी पढ़ें :   Punjab Assembly Election 2022: अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस के सांसदों और विधायकों को बताया कचरा

ये भी पढ़ें :  पश्चिम बंगाल के बाद अब त्रिपुरा में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच जंग शुरू

त्रिपुरा की कथित हिंसा में टीएमसी कार्यकर्ताओं को पीटने का आरोप
रविवार को, टीएमसी ने आरोप लगाया था कि अगरतला में एक पुलिस स्टेशन के अंदर उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को भाजपा सदस्यों द्वारा लाठी और पत्थरों से पीटा गया. पार्टी नेता सयोनी घोष को सुबह पूछताछ के लिए वहां ले जाने के बाद टीएमसी सदस्य थाने में जमा हो गए थे.

मालूम हो कि अभिनेत्री से टीएमसी नेता बनीं सायोनी घोष को हत्या के प्रयास के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जब उन्होंने शनिवार की रात ‘खेला होबे’ ​​(हम खेलेंगे) के नारे लगाकर राज्य के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब की एक बैठक को कथित रूप से बाधित कर दिया था.

Tags: Supreme Court, TMC, Tripura, Tripura civic polls



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk