राष्ट्रीय

दिल्‍ली के व्‍यापारी को 500 करोड़ का झांसा देकर 10 करोड़ ठगने वाला गिरफ्तार

[ad_1]

नई दिल्‍ली.  दिल्ली (Delhi) के ईस्ट ऑफ कैलाश के पेंट और हार्डवेयर कारोबारी से 10 करोड़ की ठगी करने के आरोप में दिल्‍ली पुलिस (delhi police) ने बेंगलुरु (Bangalore) के अतीक अहमद को गिरफ्तार (Arrested) किया है. इस मामले की शिकायत कारोबारी संजय तनेजा ने की थी. शिकायत में कहा गया था कि आरोपी ने उससे डीआरडीओ से अनुमोदित रेडियोधर्मी वस्‍तुओं की बिक्री पर होने वाले 500 करोड़ रुपए के लाभ के वादे पर धन मांगा था. आरोपी और उसके सहयोगियों ने एक गिरोह बनाकर इस ठगी को अंजाम दिया.  दिल्‍ली पुलिस की टीम ने जांच शुरु कर दी है और वह आरोपी के अन्‍य सहयोगियों की तलाश कर रही है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि शिकायत में तनेजा ने अहमद के साथ 22 लोगों के बारे में बताया है. इन लोगों ने मार्च 2016 से सितंबर 2018 के बीच 10.63 करोड़ रुपए की ठगी की. पुलिस अधिकारी ने बताया कि कारोबारी तनेजा को बताया गया था कि उन्‍हें आर्थिक मदद चाहिए. उनकी संस्‍था द्वारा रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा अनुमोदित रेडियो एक्टिव वस्‍तुओं को ब्रिटेन की एक फर्म मेसर्स बार्कलेज मेटल वर्ल्ड को बेचा जाना है. इसकी बिक्री से पहले रेडियो एक्टिव वस्‍तुओं की देखभाल करने के लिए धन की जरूरत है. तनेजा ने बताया कि उसने आरोपी को यह रकम बैंक ट्रांसफर, चेक या कई बार किश्‍तो में नकद के रूप में दी है.

ये भी पढ़ें :   मुकेश अंबानी के परिवार सहित लंदन में बसने की खबर केवल अफवाह: रिलायंस इंडस्ट्रीज

ये भी पढ़ें :  Opinion: केदारनाथ का कायाकल्प : मोदी के संकल्प से सिद्धि तक

पुलिस अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान यह पाया गया कि अधिकांश धन मेसर्स बार्कलेज मेटल वर्ल्ड को भेजा गया है. जब जांच की गई तो खुलासा हुआ कि यह मेसर्स बार्कलेज मेटल वर्ल्ड, अहमद की एकल स्‍वामीत्‍व वाली फर्म है और इससे स्‍क्रैप मेटल का काम किया जाता है. अतीक अहमद और उसके साथी समय-समय पर तनेजा को धन ट्रांसफर करने के लिए अलग-अलग बातें बताते रहते थे. अहमद और साथियों ने कथित रेडियो एक्टिव वस्‍तुओं की बिक्री में देरी का बहाना भी बनाया था.

मेसर्स देवयानी ग्रुप्‍स, मेसर्स जयपुर जेम, अंजनेया सेवा समिति, मेसर्स बार्कलेज मेटल वर्ल्ड जैसी कई फर्मों में रेडियोधर्मी सामग्री का परीक्षण और रखरखाव के बहाने धन लिया. ये सभी संस्‍थाएं आरोपियों द्वारा संचालित पाई गईं. अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (ईओडब्ल्यू) आर के सिंह ने कहा कि इस मामले में एक आरोपी भवानी सिंह शेखावत को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. पुलिस ने कहा कि अन्य सह-आरोपियों को पकड़ने के लिए आगे की जांच जारी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk