राष्ट्रीय

Pfizer का दावा-ट्रायल में एंटी कोविड पिल Paxlovid से मिले बेहतर नतीजे, भारत में कब होगी लॉन्च?

[ad_1]

नई दिल्ली.  कोरोना महामारी की रोकथाम और बेहतर इलाज के लिए दुनियाभर की फार्मा कंपनियां तेजी से विभिन्न दवाओं पर काम कर रही हैं. इस बीच अमेरिका फार्मा कंपनी फाइजर (Pfizer) द्वारा विकसित एंटी कोविड पिल पैक्सलोविड (Paxlovid) जल्द ही लॉन्च हो सकती है. लेकिन भारत में इस एंटी कोविड पिल को लॉन्च करने की कोई समय सीमा तय नहीं हुई है. शुक्रवार को फाइजर ने इस बात की जानकारी दी.

न्यूज़18 के एक ईमेल के जवाब में फाइजर ने कहा कि वह इस एंटीवायरल ड्रग के नतीजों से काफी उत्साहित है और कंपनी अमेरिका समेत दुनिया के अन्य देशों में इस दवा के इमरजेंसी यूज की मंजूरी के लिए जल्द ही डेटा सबमिट कर सकती है. हालांकि इसे लेकर समय सीमा फिलहाल निर्धारित नहीं हुई है.

क्लिनिकल ट्रायल में मिले बेहतर नतीजे
बता दें कि फाइजर ने पिछले सप्ताह इन्वेस्टीगेशनल एंटी वायरल PF-07321332 के बारे में घोषणा की थी. इस दवा को लेकर कोविड-19 से पीड़ित अति जोखिम वाले वयस्कों में बेहतर नतीजे देखने को मिले थे. फेज 2 और 3 स्टडी के दौरान कंपनी ने यह पाया कि जब रिटोनाविर की कम खुराक के साथ इस दवा को दिया गया तो, इसकी मदद से कोविड-19 से पीड़ित अति जोखिम वाले वयस्कों में अस्पताल में भर्ती होने और मृत्यु होने का जोखिम 89% तक कम हो गया.

फाइजर के प्रवक्ता ने कहा कि दवा के पॉजिटिव रिजल्ट के आधार पर, हम फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) और इंडिपेंडेंट डेटा मॉनिटरिंग कमेटी के साथ बात कर रहे हैं. हम इस दवा के अमेरिका में इमरजेंसी यूज के लिए जल्द ही डेटा सबमिट करने की योजना पर विचार कर रहे हैं. इसके बाद हम दुनिया के अन्य देशों में भी इसके लिए आवेदन करेंगे. हालांकि समय सीमा को लेकर फिलहाल हम कुछ नहीं कह सकते हैं.

सही दाम पर दुनिया तक पहुंचाएंगे यह दवा
प्रवक्ता ने कहा कि GMP प्रोसिजर के साथ PF-07321332 की मैन्युफेक्चरिंग की सुविधा आयरलैंड, जर्मनी और इटली में होगी. फाइजर का उद्देश्य है कि वह इस सुरक्षित और प्रभावी एंटी वायरल दवा को मंजूरी मिलने के बाद सही दाम पर पूरी दुनिया के लोगों तक पहुंचाए.

इसके अलावा एक अन्य अमेरिकी फॉर्मा कंपनी मर्क (Merck) द्वारा तैयार एंटी कोविड पिल मोलनुपिराविर जल्द ही भारतीय बाजार में उपलब्ध हो सकती है. फॉर्मा कंपनी मर्क, वॉलेंट्री लाइसेंसिंग एग्रीमेंट्स के साथ इस दवा का निर्माण भारत की 8 ड्रग मेकर्स के साथ मिलकर कर रही है. इनमें सिप्ला, डॉ रेड्डी लेबोरेट्री, सन फॉर्मा, हेटेरो, अरबिंदो फॉर्मा और अन्य कंपनियां शामिल हैं. इनमें से कुछ फॉर्मा कंपनियों ने इस दवा के अंतिम चरण के क्लिनिकल ट्रायल को पूरा करके डेटा ड्रग रेग्युलेटर को सौंप दिया है.

इस बारे में गुरुवार को काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) में कोविड स्ट्रेटेजी ग्रुप के प्रमुख डॉ राम विश्वकर्मा ने News18 को बताया कि 770 मरीजों पर अमेरिकी फॉर्मा कंपनी मर्क की एंटी कोविड पिल मोलनुपिराविर के प्रयोग का डेटा सबमिट किया जा चुका है और जल्द ही इस दवा के इमरजेंसी यूज की अनुमति मिलने की उम्मीद है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk