राष्ट्रीय

पायलट के करीबियों को गहलोत कैबिनेट में मिलेगी जगह! मंत्रिमंडल विस्तार से पहले सोनिया गांधी से मिले राजस्थान के सीएम

[ad_1]

जयपुर. राजस्थान में कैबिनेट विस्तार (Rajasthan Cabinet Expansion) से पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से मुलाकात की. इस बैठक में सचिन पायलट खेमे के विधायकों को कैबिनेट में जगह दिए जाने पर चर्चा हुई. दरअसल पिछले कुछ समय से सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सत्ता को लेकर संघर्ष चल रहा है. जिसकी वजह से पार्टी की अंदरूनी कलह सामने आई है.

इससे पहले मुख्यमंत्री गहलोत, राहुल गांधी के निवास पर प्रियंका गांधी वाड्रा से मिले. इस बैठक में पार्टी महासचिव अजय माकन और केसी वेणुगोपाल भी मौजूद रहे. सूत्रों का कहना है कि राजस्थान में अगले कुछ दिनों में कैबिनेट विस्तार में बड़ा बदलाव होने वाला है जिसकी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं, साथ ही पार्टी में ‘वन मैन, वन पोस्ट’ के फॉर्मूले पर बढ़ने को लेकर सहमति बनी है.

इस मुलाकात के बाद अजय माकन ने पत्रकारों से कहा कि हमने राजस्थान के मौजूदा राजनीतिक हालातों पर चर्चा की और राज्य में होने वाले अगले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की सत्ता में वापसी सुनिश्चित करने के लिए रणनीति पर बात की. इसके अलावा हाल ही में राज्य में हुए विधानसभा उपचुनावों में कांग्रेस के बेहतर प्रदर्शन पर भी चर्चा हुई.

राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी और पार्टी महासचिव अजय माकन ने कहा कि इस बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ कई जरूरी मुद्दों पर चर्चा हुई और अब रोडमैप तैयार हो गया है.

सचिन पायलट भी राहुल-प्रियंका से मिले थे
बता दें कि राजस्थान में काफी समय से कैबिनेट विस्तार लंबित था. मंत्रिमंडल में सीएम गहलोत के विरोधी खेमे को जगह दिए जाने की मांग उठ रही थी. हाल ही में सचिन पायलट भी प्रियंका और राहुल गांधी से मिले थे. इस दौरान उन्होंने पार्टी में अपने भविष्य और करीबी विधायकों को राज्य कैबिनेट में जगह दिए जाने के मुद्दे पर चर्चा की थी.

पिछले साल सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच मतभेदों की वजह से राज्य में कांग्रेस सरकार पर खतरा मंडराने लगा था. हालांकि पार्टी हाईकमान की कोशिशों से सरकार गिरने से बच गई. इसके बाद सचिन पायलट को उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस प्रभारी के पद से हटा दिया गया और उनकी जगह गोविंद डोटसारा को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष नियुक्त किया गया.

पंजाब के बाद राजस्थान में भी नेतृत्व परिवर्तन की मांग
हाल ही में, पंजाब में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर हुए संघर्ष के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पार्टी छोड़ दी थी. इसके बाद से ही सचिन पायलट समर्थक भी राजस्थान की राजनीति में नेतृत्व परिवर्तन की मांग करने लगे. राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के पूर्व महासचिव और सचिन पायलट के करीबी महेश शर्मा ने कहा था कि राज्य में सचिन पायलट की मेहनत की बदौलत कांग्रेस सरकार बनाने में कामयाब रही थी और उन्हें मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिलना चाहिए.

पार्टी सूत्रों ने CNN-News18 से कहा कि सचिन पायलट खेमे के 4 विधायकों को जल्द ही अशोक गहलोत मंत्रिमंडल में कैबिनेट मिनिस्टर के तौर पर जगह दी जाएगी. फिलहाल गहलोत कैबिनेट में 21 सदस्य हैं और 9 अन्य मंत्रियों को इसमें जगह दी जाएगी. इसके अलावा राज्य में जिला स्तर पर पार्टी इकाइयों में भी कार्यकर्ताओं को जगह मिलेगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk