उत्तराखंड

Uttarkashi News : 30 स्कूली बच्चे लिवर इन्फेक्शन के शिकार, स्कूल का पानी पीना हुआ खतरनाक

[ad_1]

बलबीर परमार
उत्तरकाशी. उत्तराखंड के एक सरकारी स्कूल में दूषित पानी पीने के कारण ढाई दर्जन बच्चों की सेहत बिगड़ने की खबर आई है. उत्तरकाशी के दूरस्थ विकासखण्ड मोरी के आपदाग्रस्त क्षेत्र आराकोट बंगाण स्थित राजकीय इंटर कालेज टिकोची मे पिछले कई दिनों से लगातार स्कूली छात्र छात्राओं का स्वास्थ्य बिगड़ रहा था. जब इसकी सूचना स्कूल प्रबंधन और स्थानीय लोगों ने ज़िला प्रशासन को दी तो ज़िला प्रशासन ने नज़दीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आराकोट के साथ ज़िला सीएमओ कार्यालय से डॉक्टरों की टीम को राजकीय इंटर कॉलेज टिकोची भेजा गया.

जांच टीम ने 30 बच्चों में पीलिया की शिकायत पाई, जिनमें से 21 छात्रों का ब्लड सेंपल जांच के लिए भेजा गया है. सीएमओ उत्तरकाशी केएस चौहान ने न्यूज़ 18 को बताया कि विद्यालय में प्रदूषित पानी पीने के कारण ये मामले सामने आए. उन्होंने बताया कि कोरोना काल से ही स्कूल बन्द पड़े थे. स्कूल खुलने पर छात्र छात्राओं ने टंकी में लंबे समय से स्टोर प्रदूषित पानी पिया, जिसके कारण वो बीमारी के शिकार हुए. फिलहाल स्वास्थ्य विभाग पूरे मामले पर नज़र बनाए हुए है. इधर मौसम में बदलाव को लेकर भी लोगों को सतर्कता बरतने की हिदायतें दी जा रही हैं.

विकासनगर में आए डेंगू के केस
इधर, देहरादून के विकासनगर स्थित उप जिला चिकित्सालय में वायरल फीवर के साथ साथ खांसी ज़ुकाम से पीड़ित मरीज़ों की संख्या बढ़ रही है. इन रोगों से बचने के लिए डॉक्टर और विशेषज्ञ सावधान रहने की सलाह दे रहे हैं. न्यूज़18 संवाददात मुकेश भट्ट की रिपोर्ट के मुताबिक अस्पताल के प्रभारी डॉक्टर केसी शर्मा ने बताया कि सामान्य रूप से खांसी-ज़ुकाम व बुखार से पीड़ित मरीज़ तो अस्पताल पहुंचे ही हैं, साथ ही डेंगू के मरीज़ भी इलाज के लिए आए.

uttarakhand school, dengue case, dengue in uttarakhand, water pollution, government schools, उत्तराखंड के स्कूल, जल प्रदूषण, डेंगू केस, सरकारी स्कूल, aaj ki taza khabar, UK news, UK news live today, UK news india, UK news today hindi, UK news english, Uttarakhand news, Uttarakhand Latest news, उत्तराखंड ताजा समाचार, Dehradun news, Dehradun latest news, Dehradun news live, Uttarkashi news, Uttarkashi latest news, Uttarkashi news live

विकासनगर के अस्पताल में सर्दी संबंधी​ शिकायतें लेकर मरीज़ पहुंच रहे हैं.

बदलते मौसम को लेकर राजधानी में स्वास्थ्य विभाग बचाव और रोकथाम को लेकर प्रचार भी कर रहा है. विशेषज्ञों का कहना है कि घर में कहीं भी पानी एकत्रित नहीं होने देना चाहिए, क्योंकि डेंगू का मच्छर एकत्रित पानी में पैदा होता है. इसके अलावा, डेंगू का मच्छर सूर्योदय से सूर्यास्त तक सक्रिय रहता है और ज़्यादा ऊंचाई तक नहीं उड़ता. घर के आसपास साफ सफाई का खयाल रखते हुए मच्छर जनित रोगों से बचा जा सकता है.

Tags: Dengue, Government School, Uttarakhand news



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk