उत्तराखंड

UP-उत्तराखंड के बीच क्या है परिसंपत्ति विवाद? जिसे सुलझाने लखनऊ में योगी-धामी करेंगे बैठक

[ad_1]

देहरादून/लखनऊ. जबसे उत्तर प्रदेश से अलग होकर उत्तराखंड राज्य बना है, तभी से दोनों राज्यों के बीच परिसंपत्तियों के बंटवारे का विवाद बरकरार है. अब इस विवाद को सुलझाने के लिए बड़े स्तर पर कोशिश की जा रही है. बुधवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी लखनऊ के दौरे पर जा रहे हैं और परिसंपत्तियों के बंटवारे को लेकर गुरुवार को वह यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ अहम बैठक करने वाले हैं. सीएम धामी के इस दौरे और बैठक से पहले देहरादून में इस विषय में सचिव स्तर की बैठक हो रही है, जिसमें दोनों राज्यों के मुख्य सचिव समेत 11 विभागों के सचिव शामिल हैं.

क्या है परिसंपत्ति विवाद?
उत्तराखंड और उप्र के बीच पिछले 21 सालों से परिसंपत्तियों के बंटवारे को लेकर विवाद हल नहीं हो सका है. खबरों की मानें तो उत्तराखंड के सिंचाई विभाग की 5500 से करीब 13,000 हेक्टेयर ज़मीन और 4000 इमारतों को लेकर विवाद है, जिन पर अब तक यूपी का ही कब्ज़ा है. उत्तराखंड परिवहन विभाग की 5000 करोड़ रुपये की संपत्ति को लेकर यूपी के साथ विवाद है, तो हरिद्वार में कुंभ और कांवड़ मेले की ज़मीन पर कब्ज़े को लेकर भी विवाद है.

टिहरी डैम पर भी अब तक उप्र मालिकाना हक लिये हुए है. कुल मिलाकर 11 विभागों की ज़मीन, भवन और संपत्तियों पर उत्तराखंड दावा करता है, जो अब तक यूपी के अधिकार में हैं और इनसे यूपी ही राजस्व वसूल रहा है. इस परिसंपत्ति विवाद को लेकर कई मामले विभिन्न अदालतों में भी पेंडिंग हैं. राजस्व, सिंचाई, जल विद्युत परियोजनाएं, परिवहन, पर्यटन व कार्मिकों के आवंटन से जुड़े विभागों के मामले उलझे हुए हैं. इन्हीं को हल करने के लिए दोनों मुख्यमंत्री बैठक करने वाले हैं.

सीएम धामी का लखनऊ दौरा
गुरुवार की बैठक से पहले बुधवार दोपहर धामी लखनऊ पहुंच रहे हैं. वह यहां कई कार्यक्रमों में शिरकत करने वाले हैं. लखनऊ यूनिवर्सिटी के छात्र रहे धामी करीब तीन घंटे का समय यूनिवर्सिटी में बिताएंगे, जहां वह कार्यक्रम में संबोधित भी करेंगे. धामी इस दौरे पर राज्यपाल के साथ ही अपने आध्यात्मिक गुरु से भी भेंट करने वाले हैं. धामी के इस पूरे दौरे में सबसे अहम परिसंपत्तियों के विवाद को सुलझाना ही है.

क्या सुलझ सकेगा सालों का विवाद?
इस बारे में बीजेपी ने दावा किया है कि चुनाव से पहले इस मसले को सुलझा लिया जाएगा. उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा चूंकि इस समय दोनों राज्यों और केंद्र में बीजेपी की ही सरकारें हैं इसलिए इस विवाद के सुलझने का यह सही समय है. योगी और धामी की बैठक से पहले यह भी कहा जा रहा है चूंकि योगी उत्तराखंड के हैं और धामी उप्र से गहरा ताल्लुक रखते हैं इसलिए दोनों सीएम आपसी सामंजस्य से दोनों राज्यों के बीच चल रहे इस झगड़े को ठीक से सुलझा सकते हैं.

Tags: Lucknow news, Pushkar Singh Dhami, UP news, Uttar pradesh news, Uttarakhand news, Yogi adityanath news



[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk