राष्ट्रीय

Vaccine Booster Shot: क्या भारत के लिए बूस्टर डोज का सही समय है? जानें दिल्ली एम्स के डॉक्टर्स की राय

[ad_1]

नई दिल्ली: कोरोना (Coronavirus) की जंग जीतने के लिए देश में तेजी से वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) के काम को बढ़ाया जा रहा है. इस समय अलग-अलग देशों में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम अलग-अलग तरह से चलाया जा रहा है. कई देशों में बूस्टर शॉट (Covid-19 Booster Shot) देने की बात सामने आने के बाद अब भारत में भी कोरोना की बूस्टर डोज (Corona Vaccine Booster Dose) की चर्चा होने लगी है. कोरोना की बूस्टर डोज को लेकर अभी भी डॉक्टरों और वैज्ञानिकों के बीच मतभेद बना हुआ हैं. क्या भारत में अब बूस्टर शॉट दिए जा सकते हैं इस पर दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS) की डॉक्टर ने बड़ी बात कही है. एक डॉक्टर ने कहा कि अभी भारत में बूस्टर शॉट का देने का जोखिम नहीं उठा सकते क्योंकि अभी भारत में सिर्फ 35 प्रतिशत लोगों का ही पूरी तरह से वैक्सीनेशन हुआ है.

दिल्ली एम्स में न्यूरोलॉजी प्रोफेसर और डॉक्टर पद्मा श्रीवास्तव ने बूस्टर डोज न देने का तर्क देते हुए कहा कि जिन लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी है उन्हें बूस्टर डोज देने की अपेक्षा यह जरूरी है कि जिन लोगों का अभी पूरी तरह से वैक्सीनेशन नहीं हुआ है उन्हें तेजी गति के साथ वैक्सीन की दूसरी डोज दी जाए.

उन्होंने कहा कि हमारे देश की अभी सिर्फ 35 प्रतिशत आबादी को पूरी तरह से टीका लगाया गया है जबकि वहीं अभी आबादी का एक बड़ा हिस्सा ऐसा है जिसे वैक्सीने देने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि हमें यह सोचने की जरूरत है कि क्या हम वैक्सीन का बूस्टर शॉट उसे दें जिसने दोनों खुराक ले ली हैं या फिर उसे दें जिसे अभी सिर्फ एक डोज लगी है.

नहीं बन रही है एंटीबॉडी
हालांकि डॉक्टर ने कहा कि बूस्टर शॉट का सवाल नैतिक है और डॉक्टर्स के बीच में अभी इस पर मंथन चल रहा है कि भारत में कब बूस्टर डोज देने का सही समय होगा. उन्होंने कहा कि मुझे भरोसा है कि इस मुद्दे पर थिंक टैंक एक ठोस और सही निर्णय लेंगे. डॉ. पद्मा ने कहा कि पर्याप्त अध्ययन से यह भी पता चलता है कि बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्होंने वैक्सीन तो ली लेकिन उनमें एंटीबॉडी नहीं बन रही है.

https://www.youtube.com/watch?v=bRWQbwnRrwA

जरूरत पड़ेगी कोविड-19 बूस्टर डोज की
इससे पहले भारत बॉयोटेक के अध्यक्ष डॉ. कृष्णा एला ने कहा बूस्टर खुराक को लेकर एक बड़ी बात कही थी. उन्होंने कहा कि अगर वायरस एक बार फिर से अपने में परिवर्तन करता है तो लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक की जरूरत पड़ेगी. उन्होंने कहा कि भविष्य में किस प्रकार के बूस्टर खुराक की जरूरत होगी और इसे कैसे तेजी से लोगों तक पहुंचाया जा सकता है हम इस काम कर रहे हैं. इस समय दुनिया के कई देश अपने नागरिकों को बूस्टर खुराक दे रहे हैं जिनमें अमेरिका, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, फ्रांस आदि देश शामिल हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk